UPTET Hindi Previous Year Questions : 8th January 2020

Hindi Previous Year Questions

हिंदी भाषा TET परीक्षा का एक महत्वपूर्ण भाग है इस भाग को लेकर परेशान होने की जरुरत नहीं है .बस आपको जरुरत है तो बस एकाग्रता की. ये खंड न सिर्फ CTET Exam (परीक्षा) में एहम भूमिका निभाता है अपितु दूसरी परीक्षाओं जैसे UPTETKVS ,NVSDSSSB आदि में भी रहता है, तो इस खंड में आपकी पकड़, आपकी सफलता में एक महत्वपूर्ण कदम साबित हो सकती है.TEACHERSADDA आपके इस चुनौतीपूर्ण सफ़र में हर कदम पर आपके साथ है।

निर्देश (1-5). निम्नलिखित अपठित गद्यांश के आधार पर पूछे गए प्रश्नों के उत्तर दीजिए।

गिजुभाई न केवल बच्चों की क्षमता और बौद्धिकता में विश्वास व्यक्त करते हैं अपितु वे उनकी सर्जनात्मकता में भी अगाध आस्था रखते हैं। उनके अनुसार कुछ हत्याएँ पीनल कोड की धार के अधीन नहीं आती। उनमें कानूनवेत्ताओं को अपराध जैसी कोई चीजें नजर आती। कानूनवेत्ताओं की न्याय नीति-सम्बन्धी मर्यादाएँ सिर्फ पीनल कोड से बँधी होती हैं। शिक्षाशास्त्रियों के पास राज्य, रूढ़ि अथवा धर्म की कोई सत्ता नहीं है इसलिए जीवन के प्रति जो अपराध होते हैं उनके लिए न कोई पीनल कोड, न कोई उन्हें निंदनीय मानता, न कोई धार्मिक भय है। जीवन के प्रति जो अपराध होते है- बालक की सृजन – शक्ति की हत्या। ईश्वर ने मनुष्य का सृजन किया और उसे अपनी सृजन – शक्ति की हत्या। ईश्वर ने मनुष्य के सृजन की अनंत शक्ति के समान ही अगणित है। साहित्य एक सृजन है, चित्रकला दूसरा सृजन है, संगीत तीसरा सृजन है और स्थापत्य चौथा सृजन है इस तरह गिनने बैठा जाए तो मनुष्य के द्वारा बनाई अनेकानेक कृतियों को गिनाया जा सकेता है जब शिक्षक या अभिभावक यह तय करते हैं कि बच्चे को क्या करना चाहिए, क्या नहीं करना चाहिए – वस्तुतः इन निर्णयों में ही वे बालक की सृजन – शक्ति का दमन कर देते हैं।

Q1. साहित्य शब्द में इक प्रत्येक लगाने पर शब्द बनेगा
(a) साहित्यक
(b) साहित्यिक
(c) साहित्यइक
(d) साहित्यीक

Q2. बौद्धिक, ऐतिहासिक शब्दों में मूल शब्द प्रत्यय है
(a)बुद्ध (मूल शब्द) + ‘इक’ प्रत्यय, इतिहास (मूल शब्द) + ‘इक’ प्रत्यय ।
(b) बौद्धि (मूल शब्द) + ‘क’ प्रत्यय, ऐतिहास (मूल शब्द) + ‘इक’ प्रत्यय
(c) बुद्धि (मूल शब्द) + ‘इक’ प्रत्यय, इतिहास (मूल शब्द) + ‘इक’ प्रत्यय
(d) बौद्ध (मूल शब्द) + ‘क’ प्रत्यय, ऐतिहास (मूल शब्द) + ‘इक’ प्रत्यय

Q3. न्याय-नीति में समास है
(a) द्वंद्व समास
(b) अव्ययीभाव
(c) तत्पुरुष
(d) कर्मधारय

Q4. ‘ईश्वर’ का पर्यायवाची नहीं है
(a) परमेश्वर
(b) परमात्मा
(c) ब्रह्मा
(d) जगदीश

Q5. ‘समान’ का विलोम शब्द है
(a) असमानता
(b) सामान
(c) असमान
(d) सामना

Q6. निम्नलिखित युग्मों में से एक समास की दृष्टि से अशुद्ध है-
(a) भरपेट-अव्ययीभाव
(b) रसोईघर- तत्पुरुष
(c) दालरोटी- द्वन्द्व
(d) चालचलन – अव्ययीभाव

Q7. पतझड़ में कौन-सा समास है?
(a) कर्मधारय
(b) बहुब्रीहि
(c) अव्ययीभाव
(d) द्विगु

Q8. रातोंरात में समास है-
(a) अव्ययीभाव
(b) तत्पुरुष
(c) द्वन्द्व
(d) कर्मधारय

Q9. कूपमंडूक में किस समास की योजना है-
(a) बहुब्रीहि
(b) द्वन्द्व
(c) तत्पुरुष
(d) अव्ययीभाव

Q10. मुँहतोड़ शब्द में समास है-
(a) तत्पुरुष
(b) अव्ययीभाव
(c) कर्मधारय
(d) द्विगु

Solutions

S1. Ans.(b)
Sol. साहित्य + इक = साहित्यिक होगा।

S2. Ans.(c)
Sol. मूलशब्द – प्रत्यय
बुद्धि + इक = बौद्धिक
इतिहास + इक = ऐतिहासिक
अन्य सभी गलत है।

S3. Ans.(a)
Sol. न्याय नीति में द्वंद्व समास हैं न्याय-नीति से अभिप्राय न्याय और नीति से हैं।

S4. Ans.(c)
Sol. जगदीश, परमेश्वर, परमात्मा ईश्वर शब्द के पर्यायवाची है। ब्रह्मा हिंदू देवता का नाम है।

S5. Ans.(c)
Sol. समान का विलोम – जो समान न हो अर्थात् असमान होगा।

S6. Ans.(d)

S7. Ans.(b)

S8. Ans.(a)

S9. Ans.(a) कूपमंडूक – जिसका ज्ञान(कूप) सीमित हो वह

S10. Ans.(a) मुँहतोड़- मुँह (को) तोड़नेवाला-तत्पुरुष समास (कर्मतत्पुरुष)


Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *