CTET 2020 Hindi Grammar Questions: 4th February 2020

Hindi Important Questions

निर्देश (प्रश्न संख्या 1 – 5 के लिये)- नीचे दिये गये पद्यांश को पढ़ कर इन प्रश्नों के उत्तर दीजिये-

लक्ष्मी थी या दुर्गा थी वह स्वंय वीरता की अवतार
देख मराठे पुलकित होते उसके तलवारों के वार
नकली युद्ध व्यूह की रचना और खेलना खूब शिकार
सैन्य घेरना, दुर्ग तोड़ना ये थे उसके प्रिय खिलवार
महाराष्ट्र कुल देवी उसकी भी आराध्य भवानी थी
बुन्देले हर बोलों की मुँह हमने सुनी कहानी थी
खूब लड़ी मरदानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।

Q1. उक्त पद्यांश का सही शीर्षक हो सकता है-
(a) झाँसी की रानी
(b) 1857 का गदर
(c) अंग्रेजों पर आक्रमण
(d) महाराष्ट्र कुल देवी

Q2. इस कविता की कवयित्री का नाम है-
(a) महादेवी वर्मा
(b) सुभद्रा कुमारी चौहान
(c) तारा पाण्डेय
(d) मीराबाई

Q3. इस कविता में प्रयोग किया गया रस है-
(a) भक्ति
(b) करुण
(c) श्रृंगार
(d) वीर

Q4. कवयित्री की अधिकांश रचनाएँ-
(a) सामाजिक हैं
(b) वात्सल्यपूर्ण है
(c) देशभक्तिपूर्ण है
(d) धार्मिक है

Q5. ‘खूब लड़ी मरदानी’ वह तो झाँसी वाली रानी थी में ‘मरदानी’ का अर्थ है –
(a) वीरांगना
(b) पुरुषों जैसी
(c) पुरुषत्व वान
(d) लडा़कू

Q6. सुख-दुःख के बीच लगने वाला (-) चिह्न है –
(a)निर्देशक चिह्न
(b)योजक चिह्न
(c) विवरण चिह्न
(d)अपूर्ण चिह्न

Q7. निम्नलिखित में से कौन-सा अल्पविराम चिह्न है ?
(a) (.)
(b) (;)
(c) (,)
(d) (।)

Q8. मनोविकार सूचक शब्दों, वाक्यांशों तथा वाक्यों के अंत में किस चिह्न का प्रयोग होता है?
(a) विस्मयबोधक
(b) प्रश्नवाचक
(c) अर्धविराम
(d) अल्पविराम

Q9. जब वाक्य के मध्य में कोई शब्द या पद छूट जाता है, तब उसे पूरा करने के लिए उस स्थान पर कौन-सा विराम चिह्न लगाकर उसके ऊपर लिखा जाता है?
(a)अपूर्णसूचक विराम चिह्न
(b)अर्धविराम चिह्न
(c) अल्प विराम चिह्न
(d)हंसपद विराम चिह्न

Q10. प्रश्नवाचक तथा विस्मयादिबोधक को छोड़कर सभी वाक्यों के अन्त में प्रयुक्त होता है–
(a) पूर्ण विराम
(b) अर्ध विराम
(c) उद्धरण चिन्ह
(d) विवरण चिन्ह

Solutions

S1. Ans.(a)
Sol. उक्त पद्यांश का सी शीर्षक ‘झाँसी की रानी’ होगा।

S2. Ans.(b)
Sol. झाँसी की रानी कविता की कवयित्री का नाम सुभद्रा कुमारी चौहान है।

S3. Ans.(d)
Sol. इस कविता में वीर रस का प्रयोग किया गया है। वीर रस से ओत-प्रोत इस कविता की रचना सुभद्रा कुमारी चौहान को राष्ट्रीय बसन्त की प्रथम कोकिला का विरुद दिया गया था।

S4. Ans.(c)
Sol. कवयित्री की अधिकांश रचनाएँ देशभक्तिपूर्ण हैं। ‘वीरों का कैसा हो बसन्त’ उनकी प्रसिद्ध देश-प्रेम की कविता है। ‘स्वदेश के प्रति’ , ‘सेनानी का स्वागत’ , ‘विदाई’ , ‘जलियां वाले बाग में बसन्त’ आदि श्रेष्ठ कवित्व से भरी उनकी अन्य सशक्त कविताएँ हैं। सुभद्रा जी ने मातृत्व से प्रेरित होकर बहुत सुन्दर बाल कविताएँ लिखी हैं। इन कविताओं में भी उनकी राष्ट्रीय भावनाएँ प्रकट हुई हैं।

S5. Ans.(a)
Sol. सुभद्रा कुमारी चौहान रचित इस रचना में मरदानी का अर्थ पुरुषों जैसी या पुरुषों जैसा वस्त्र पहनने वाली नहीं है। इस कविता में मरादानी का अर्थ वीर से है। अतः अभीष्ट विकल्प(a) है।

S6. Ans.(b)
Sol. सुख-दुःख के बीच लगने वाला चिह्न योजक चिह्न (-) है।

S7. Ans.(c)
Sol. वाक्यों तथा शब्दों का परस्पर सम्बन्ध बताने तथा किसी विषय – प्रसंग केा भिन्न -भिन्न वर्गों में बांटने के लिए विराम चिह्नों की आवश्यकता पड़ती है जो उच्चारण के समय प्रयोग करने से उस वाक्य अथवा शब्द का अर्थ स्पष्ट होता है। मुख्य चिह्न इस प्रकार हैं-

विराम -चिह्न
पूर्ण विराम -।
अल्प विराम- ,
अर्ध विराम- ;
योजक चिह्न –
प्रश्नवाचक चिह्न -?
विस्मयादिबोधक चिह्न -!
उद्धरण चिह्न- ’’ ’’

S8. Ans.(a)
Sol. मनोविकार सूचक शब्दों, वाक्यांशों तथा वाक्यों के अंत में विस्मयादिबोधक चिह्न का प्रयोग होता है। यह चिह्न, आश्चर्य, खुशी, सम्बोधन व्यक्त करने के लिए भी प्रयोग किया जाता है।

S9. Ans.(d)
Sol. जब वाक्य के मध्य में कोई शब्द या पद छूट जाता है, तब उसे पूरा करने के लिए उस स्थान पर हंसपद विराम चिह्न (ˆ) लगाकर उसके ऊपर लिखा जाता है।

S10. Ans.(a)

Get free Study Material for Teaching Exam

You may also like to read :

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *